शल्य क्रिया बिना, अनुसंधान पर आधारित होमियोपेथी का फिशर पर नियंत्रण

  • डॉ. शाह   
  • लाईफफोर्स  
  • फिशर को जानिऍँ 
  • प्रेस सूचना
  • होमियोपेथी के बारेें मे जानिऍँ

फिशर को जानिऐें

  • फिशर क्या है?     
  • रोग के लक्षण 
  • रोग के कारण      
  • रोग निदान
  • औपचारिक उपचार           
  • होमियोपेथी उपचार

फिशर क्या है?

इस बीमारी का लक्षण यह है कि उसमे गुदे की चमड़ी की लम्बाई मे दरार पडती है । मुख्यतः गुर्देे की पिछली त्वचा मेें जहॉँ पर रक्त संचार कम होता है, वहॉँ पर एक लंबी दरार

पड़ जाती है । जिसमेें असहनीय दर्द एवं रक्त स्त्राव होता है । यही फिशर बहलाता है ।

रोग के लक्षण

  • दस्त के दौरान दर्द
  • गुदे के मुॅँह का अकड़ जाना
  • दस्त मेें रक्त का गिरना
  • स्थायी दरार की वजह से सूजन एवं खाज

रोग के कारण

इस बीमारी का सबसे सामान्य कारण कब्ज है । स्थायी कब्ज की वजह से गुदे की चमड़ी मेें बार बार घिसाई होती है जिस वजह से वहॉँ दरार पड़ जाती है । गुदे के मुॅँह के अकड़ जाने की वजह से इस हिस्से का रक्त प्रवाह कम हो सकता है जिसवे कारण दरार का भरना मुश्किल हो सकता है ।

सामान्य कारण

  • दस्त केबाद या स्थूल दस्त के बाद
  • अनेक प्रसूति
  • लंबे समय से ली गई रेचक दवाईयॉँ
  • कभी कभी दरार किसी अंदरुनी बीमारी का लक्षण भी हो सकता है,
  • जैसे - कोन्हस डिसिज, अल्सरेटिव कोलाइटिस या केन्सर
  • अनुुचित तरीके से किया गया बवासीर का ऑपरेशन

 

रोग के निदान

गुदे की जॉँच से दरार का निदान किया जा सकता है । जैसे कि गुदे की स्पदन देखना, गुदे के पार्श्व एवं पीछे की दरार का परीक्षण किया जाता है ।

औपचारिक उपचार

  • कब्ज दूर करने के लिए दवाई
  • दर्द कम करने की दवाई
  • गुदे की चमड़ी पर लगाने के लिए ऍन्टीबायोटिक क्रीम, दरार भरने वे लिए दवाई
  • कभी कभी दरार किसी अंदरुनी बीमारी का लक्षण भी हो सकता है, (Glycerin Trinitrate Olntment)
  • जो दरारे लंबे समय से न भर रही हो उस पर शल्य क्रिया की जाती है

होमियोपेथिक उपचार

होमियोपेथिक दवाइयो से इलाज की गई दरारो मे शल्य क्रिया की आवश्यकता बहुत कम पायी जाती है । इन दवाईयोें से हम दरार भरने की कोशिश करते है । इन दवाइयोें से कब्ज भी दूर किया जा सकता है । इन दवाइयो से गुदे की अकड़ दू की जाती है और दरार से होनेवाले सभी लक्षणो मेें आराम मिलता है ।

एक उचित होमियोपेथिक दवाई चुनने के लिए रोगी के सभी लक्षणो ध्यान दिया जाता है, जैसे कि दरार और उनके व्याक्तित्व के लक्षणो जैसे रोगी की जीवन शैली खाने-पीने की आदतेें, संवेदनशीलता, इन सभी मुद्दोें को ध्यान मे लिया जाता है । इस तरह से चुनी गई दवाई को प्राकृतिक दवाई कहते है । यह दवाई दरार के भरने मेें असरकारक होती है । इस तरह से चुनी दवाई से दरार के दोबारा बनने की संभावना काफी कम हो जाती है ।

 

Question to Dr. Shah's Team
About Dr. Rajesh Shah
Facts & Myths Homeopathy
Find help for your Disease
Over 2000 Case Studies
Dr. Rajesh Shah Research Work

Fissure-In-Ano Case Studies

A 27-year-old male patient, Mr. K.A.K.S (PIN: 16357) came to the center for the treatment of a Perianal abscess. He had developed a small Perianal abscess a couple of months ago. It all started with an episode of blood in stools around eight weeks ago. He took antibiotics and the bleeding stopped.....Read more

A 3-year-old kid, Mast. R. R. (PIN: 39607) visited Life Force on 14th March 2019 for receiving the treatment for his complaints of fissure-in-ano.

The patient had been complaining of pain and redness around the anal region from the last 5 days. He was experiencing the fear of.....Read more

A 36-year-old male from Mumbai, Mr. P. C. (PIN: 38148) visited our center and started treatment from Life Force Homeopathy for his complaint of Fissure-in-ano on 4th October 2018.

 

He was suffering from it since 1 year. The stools were very hard. He had to str.....Read more

Other More Case Studies

Fissure-In-Ano Testimonials

Other More Testimonials

Case Photos

Results may vary from person to person

Other More Case Photos

Videos

Results may vary from person to person

Role of Homeopathy in Recurrent Tonsillitis Treatment in Children

Previous use of cortisone affecting your treatment, explained by Dr Rajesh Shah, MD

A book on Vitiligo by Dr Rajesh Shah who has treated 6000+ cases of vitiligo

Other More Videos